All posts by Atul

1223

डा. कमलेश टंडन अस्पताल एंड टेस्ट ट्यूब बेबी सेंटर में 18 बार गर्भपात के बाद महिला ने एक बेटे को जन्म दिया

आगरा। डा. कमलेश टंडन अस्पताल एंड टेस्ट ट्यूब बेबी सेंटर में 18 बार गर्भपात के बाद महिला ने एक बेटे को जन्म दिया है। महिला को बेटा हुआ है। दोनों स्वस्थ हैं।डा. अमित टंडन ने लेप्रोस्कोपिक तकनीक का इस्तेमाल करते हुए दूरबीन विधि से महिला रजनी के गर्भाशय के मुंह पर टांके लगा दिये। उन्होंने बताया कि इस तरह के मामलों में कई खतरे होते हैं जैसे कि ब्लीडिंग होना और पेशाब की थैली फटना। सात माह की गर्भावस्था तक पहुंचते हुए महिला का ब्लड प्रेशर काफी बढ़ गया और प्लेटलेट्स भी गिरने लगे। बढ़े हुए ब्लड प्रेशर की वजह से सीजेरियन डिलीवरी की गई। डा. वैशाली टंडन ने बताया कि रजनी की शादी को 20 वर्ष हो चुके हैं। सर्वाधिक गर्भपात के बाद वह मां बनने वाली पहली महिला है। यह केस गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकार्ड में शामिल करने के लिए भेजा जायेगा।
” /> आगरा। डा. कमलेश टंडन अस्पताल एंड टेस्ट ट्यूब बेबी सेंटर में 18 बार गर्भपात के बाद महिला ने एक बेटे को जन्म दिया है। महिला को बेटा हुआ है। दोनों स्वस्थ हैं।डा. अमित टंडन ने लेप्रोस्कोपिक तकनीक का इस्तेमाल करते हुए दूरबीन विधि से महिला रजनी के गर्भाशय के मुंह पर टांके लगा दिये। उन्होंने बताया कि इस तरह के मामलों में कई खतरे होते हैं जैसे कि ब्लीडिंग होना और पेशाब की थैली फटना। सात माह की गर्भावस्था तक पहुंचते हुए महिला का ब्लड प्रेशर काफी बढ़ गया और प्लेटलेट्स भी गिरने लगे। बढ़े हुए ब्लड प्रेशर की वजह से सीजेरियन डिलीवरी की गई। डा. वैशाली टंडन ने बताया कि रजनी की शादी को 20 वर्ष हो चुके हैं। सर्वाधिक गर्भपात के बाद वह मां बनने वाली पहली महिला है। यह केस गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकार्ड में शामिल करने के लिए भेजा जायेगा।

Read More
ef83545b-97b3-4007-83ea-32ccdae925c0

India’s first Womb transplant in Pune today, mother to transfer hers to daughter

21-year-old Pune woman gets mother’s womb in India’s first uterus transplant

Dr. Amit Tandon was part of the team which did themiraculous womb Transplant on Thursday in galaxy CareLaparoscopy (GCLI) with his team of doctors. It was transplant of mother’s uterus to 21 years old daughter who does not have a uterus. This is a very very big achievement First type in the history of India. It’s an achievement of great honor.

Read More
dsc_0159

डॉ कमलेश टण्डन हॉस्पिटल एण्ड टेस्ट ट्यूब बेबी सेंटर में आज दिनाक 16/10/2016 लाइफ सेल द्वारा वेल मॉम एंटीनेटल क्लासेज का आयोजन किया गया।

व्यायाम हमेशा ही जरूरी होता है,फिर चाहे वह फिट रहने के लिए हो या फिर किसी बीमारी से छुटकारा पाने के लिए। जब बात हो गर्भावस्था की तो गर्भावस्था में तो ये और भी जरूरी हो जाता है कि व्यायाम किया जाए। गर्भावस्था में व्यायाम करना बहुत लाभाकरी होता है।

डॉ कमलेश टण्डन  हॉस्पिटल एण्ड टेस्ट ट्यूब बेबी सेंटर में आज दिनाक  16/10/2016 लाइफ सेल द्वारा   वेल मॉम एंटीनेटल क्लासेज का आयोजन किया गया जिसमे डॉ कमलेश टण्डन  , डॉ. अमित टंडन, डॉ. वैशाली टण्डन, दिल्ली से डॉ रश्मि बावा (निर्देशक प्रहास ) ने गर्भवती महिलाओं के प्रसव से सम्बंधित व्यायाम और खानपान सम्बंधित जानकारियों से अवगत कराया ।

डॉ कमलेश टण्डन  , डॉ. अमित टंडन, डॉ. वैशाली टण्डन ने बताया कि सेहतमंद शिशु की चाहत रखने वाली महिलाओं को खासतौर पर गर्भावस्था के दौरान व्यायाम करना चाहिए। गर्भावस्था में व्यायाम से क्या लाभ हो सकते हैं, व्यायाम कैसे और क्या करने चाहिए। गर्भावस्था के दौरान व्यायाम से होने वाले बच्चे‍ पर क्या असर पड़ेगा और व्यायाम कौन से महीने में करने चाहिए और कौन से में नहीं। इन तमाम बातों की जानकारी आपको होना जरूरी है। आइए जानें गर्भावस्था में व्यायाम के बारे में कुछ और बातें।

गर्भावस्‍था और व्‍यायाम

अकसर महिलाएं गर्भावस्था के दौरान आराम फरमाने लगती हैं और घर के बड़े भी इसके लिए उन्हें सलाह देते हैं। लेकिन क्या आप जानती हैं गर्भावस्था के दौरान आराम से ज्यादा काम करना चाहिए।

दरअसल, आपका शरीर गर्भावस्था के दौरान जितना सक्रिय रहेगा आपको प्रसव के समय उतना ही आराम मिलेगा।

कुछ महिलाएं पूरे नौ महीने कुछ काम नहीं करती और आराम फरमाती हैं, इससे उनका होने वाला बच्चा भी हेल्दी नहीं होगा।

आपको मालूम होना चाहिए गर्भावस्था के दौरान यदि आपका शरीर सक्रिय रहेगा और शरीर लचीली रहेगी तो ना सिर्फ गर्भावस्था के दौरान होने वाली समस्याओं को आप कम कर सकती हैं बल्कि गर्भावस्था के बाद भी आपको वापिस शेप में आने में आसानी होगी।

गर्भावस्था के दौरान व्यायाम इसीलिए भी जरूरी है क्योंकि इस दौरान ली जाने वाली तमाम दवाईयों के कई बार साइड इफेक्ट हो सकते हैं। इन साइड इफेक्ट्स से व्यायाम करके बचा जा सकता है।

ये जरूरी नहीं कि आप गर्भावस्था के दौरान हैवी एक्सरसाइज करें बल्कि आप कुछ हल्के–फुल्के व्यायामों को अपनी दिनचर्या में शामिल कर सकती हैं।

जो महिलाएं गर्भावस्था के दौरान नियमित रूप से व्यायाम करती हैं उनके गर्भ में पल रहा शिशु भी स्वस्थ पैदा होता है। इतना ही नहीं होने वाला बच्चे का इम्यू्न सिस्टम भी अच्छा होता है।

गर्भावस्था के दौरान व्यायाम करने से होने वाले बच्चे  को सांस लेने में कोई परेशानी नहीं होती और बच्चे के फेफड़े भी मजबूत रहते हैं।

  • गर्भावस्था के दौरान यदि आप व्यायाम कर रही हैं तो डॉक्टर के सलाह-मशविरे पर ही करने चाहिए क्योंकि गर्भावस्था के दौरान आपकी कंडीशन के आधार पर ही आपको डॉक्टर व्यायाम करने की सलाह देते हैं।
  • कई महिलाएं जहां आराम से सैर कर सकती है, दौड़ लगा सकती है, जंप करती हैं और साइकलिंग इत्यादि कर सकती हैं वहीं कई गर्भवती महिलाओं को ये सभी काम ना करने की सलाह दी जाती है। इसीलिए डॉक्टर की सलाह गर्भावस्था के दौरान बहुत जरूरी है जिससे आप अपने होने वाले बच्चे को सेहतमंद बना सकती हैं।
  • गर्भवती होने के बाद यदि आप नियमित व्‍यायाम करती हैं तो सामान्‍य प्रसव की संभावना बढ़ जाती है, क्‍येांकि व्‍यायाम करने से आपका गर्भगृह ओपेन हो जाता है, इसलिए नियमित व्‍यायाम जरूरी है।

गर्भावस्था के दौरान कुछ व्यायाम फायदेमंद हो सकते है। जाने कुछ सामान्य से सुझाव: 
1.    अपने दिनचर्या व्यायाम में परिवर्तन करें
पहले और तीसरे महीने के दौरान विशेष रूप से आपको अपनी व्यायाम दिनचर्या में परिवर्तन करने की जरूरत होती है। इस दौरान आपको किसी भी प्रकार का भारी बोझ उठाने से बचना चाहिए। गर्भवस्था के दौरान भारोत्तोलन जैसे व्यायाम ना करें। एक्वा-एरोबिक्स, योग जैसे व्यायाम कर सकती है। लेकिन डॉक्टर या फिटनेस ट्रेनर की देखरेख में ही व्यायाम करें।

  1.  सुरक्षित गर्भावस्था व्यायाम
    गर्भावस्था के दौरान सुरक्षित व्यायाम ही करें, जो आपको और आपके होने वाले बच्चे को किसी भी प्रकार का नुकसान ना पहुंचाए। जैसे- योग, ध्यान व टहलना । ये व्यायाम गर्भवस्था के दौरान सुरक्षित होते है।
    3.    पीठ दर्द कम करने के लिए 
    पीठ दर्द कम करने करने के लिए और अपने शरीर पर अतिरिक्त भार को संभालने के लिए आप योग कर सकती हैं। ऐसे में आप सांस संबंधी योग कर सकती हैं। तैरना भी गर्भावस्था में अच्छा व्यायाम है।

 

  1.  वजन प्रबंधनआप दो तरह से अपने वजन का प्रबंधन कर सकती है, और व्यायाम इसमें आपकी मदद करता है। पहला पेट भर खाने के बाद अधिक कैलोरी को जलाने के लिए। दूसरी आप व्यायाम करने की आदत को अपनी आदत में शामिल करें।

    5.    तनाव कम करने वाले व्यायाम

    क्या आप जानते हैं कि आम तौर पर व्यायाम तनाव को कम करने और मूड को सही करने में बहुत कारगर होता है। हम सभी जानते हैं मूड का बदलना गर्भावस्था के आम लक्षणों में से एक है । गर्भावस्था के दौरान कुछ महिलाओं में तनाव ज्यादा होता है। गर्भावस्था के दौरान नियमित रूप से व्यायाम करने से आप भावनात्मक रूप सही महसूस कर सकती हैं, और इससे कम तनाव होगा।

कार्यशाला मे गर्भवती महिलाओं ने बढ़ चढ़कर भाग लिया तथा गर्भावस्था मे होने वाले व्यायाम तथा खानपान से सम्बंधित ज्ञान प्राप्त किया । कार्यशाला मे करीबन 30-35 लोगो ने भाग लिया ।

डॉ कमलेश टण्डन और डॉ वैशाली टण्डन ने विश्वास दिलाया है कि वो इस प्रकार कि कार्यशाला का आयोजन करते रहेंगे जिससे गर्भवती  महिलाओं को सही समय पर सही जानकारी प्राप्त हो सके ।

 

Read More
fibroud uterus

महिला की बच्चेदानी से 3.25 किलो वजन की रसौली निकालने का कीर्तिमान स्थापित किया I

डॉक्टर भगवान का रूप होता है यह कहावत उस समय चरितार्थ हो गयी जब डॉ कमलेश टंडन हॉस्पिटल एंड टेस्ट ट्यूब बेबी सेंटर में डॉ अमित टंडन डॉ वैशाली टंडन एवं उनकी टीम ने एक महिला की बच्चेदानी से 3.25 किलो वजन की रसौली निकालने का कीर्तिमान स्थापित किया I

यह आपरेशन घंटे चला और २५ कम करीब ३.२५ किलो वजन कि रसौली को सफलता पूर्वक निकाला गया डॉ अमित टंडन ने बताया कि सबसे बड़ी रसौली विश्व में ३.४ kg की निकली गयी है इसको भी वह लिम्का बुक और गिनीज बुक रिकॉर्ड में दर्ज करायेंगे I

मरीज अब बिल्कुल ठीक है और परिवारजन बहुत खुश है डॉ कमलेश टंडन एवं डॉ वैशाली टंडन ने आश्वस्त किया है कि वो इस प्रकार के आपरेशन करके मरीजो को लाभ पहुँचाते रहेंगे I

Read More
BREAST FEEDING PHOTO

WORD INTERNATIONAL BREAST FEEDING WEAK के उपलक्ष मे AOGS द्धारा एक कार्यक्रम आयोजित किया

आज दिनाँक  04/08/2016 को डॉ कमलेश टंडन हॉस्पिटल एंड टैस्ट टियूब बेबी सेंटर मे WORD INTERNATIONAL BREAST FEEDING WEAK   के उपलक्ष मे AOGS  द्धारा एक कार्यक्रम आयोजित किया

कार्यक्रम मे डॉ कमलेश टंडन ने बताया कि बच्चे के लिए माँ के दूध से बेहतर कोई आहार नहीं है  महीने तक बच्चे को केवल माँ का दूध ही पिलाना चाहिए

कार्यक्रम मे डॉ कमलेश टंडन , डॉ वैशाली टंडन , डॉ अमित टंडन और डॉ रंजू अग्रवाल गायनिकोलॉजिस्ट उपस्थित थे

डॉ रंजू अग्रवाल ने भी बताया कि स्तनपान से बच्चे का शारीरिक एवं मानसिक विकास तेजी से होता है

डॉ वैशाली टंडन ने स्तनपान न कराने से होने वाले नुक्सान के बारे मे बताया कि स्तनपान न कराने से बच्चे बार बार बीमार पड़ेंगे और उनका मानसिक विकास सही नहीं होगा बच्चे शारीरिक रूप से कमजोर होंगे और बीमारियों से लड़ने कि छमता भी काम होगी  बच्चे की स्मरण शक्ति काम होगी और बुद्धि का विकास स्तर भी काम होगा

इस कार्यक्रम मे 150  नर्सिंग छात्रों तथा  50  मरीजो को जानकारी देकर लाभान्वित किया

Read More
2

डॉ कमलेश टंडन हॉस्पिटल एंड टेस्ट ट्यूब बेबी सेंटर में डॉ टंडन एवं अखिल भारतीय खत्री महासभा द्धारा एक निःशुल्क स्वास्थ्य शिविर का आयोजन

आज दिनाँक 31/07/2016 को डॉ कमलेश टंडन हॉस्पिटल एंड टेस्ट ट्यूब बेबी सेंटर में डॉ टंडन एवं अखिल भारतीय खत्री महासभा द्धारा एक निःशुल्क स्वास्थ्य शिविर का आयोजन किया गया I जिसका उद्घाटन मा० श्री रविदास मेहरोत्रा , कैबिनेट राज्य मंत्री , उ० प्र० सरकार, डॉ आर. एस. पारिक द्धारा  समय 10 :30  AM पर किया गया I

इस निःशुल्क स्वास्थ्य शिविर मे विशेषज्ञ चिकित्सको  डॉ कमलेश टंडन, डॉ एम सी गुप्ता , डॉ संजय टंडन , डॉ पवन वहल, डॉ सी पी पाल , डॉ संजय धवन , डॉ बी एस बघेल , डॉ रजत कपूर , डॉ अमित टंडन , डॉ वैशाली टंडन , डॉ एस के सत्संगी , डॉ सुमित सरन सेठ आदि द्धारा  परामर्श किया गया I

इस नि:शुल्क स्वास्थ शिविर में रक्तदान का भी आयोजन किया इसमें लगभग 100 से भी अधिक लोगों ने बढ़चढ़ कर अपना योगदान दिया I इस आयोजन में गरीब अथवा असहाय मरीजों का निशुल्क इलाज किया गया I और आज का यह आयोजन कारगर सिद्ध हुआ

Read More
workshop 2

डॉ कमलेश टंडन हॉस्पीटल में Hysteroscopy के कार्यशाला का आयोजन

दिनांक- 27 और 28 जून को डॉ कमलेश टंडन हॉस्पिटल एंड टेस्ट ट्यूब बेबी सेंटर पर दूरबीन विधि द्वारा बच्चेदानी की झिल्ली की जाँच की कार्यशाला का आयोजन किया  जा रहा है। जिसमे बच्चेदानी की ब्लीडिंग की समस्याओं के मरीजों जैसे ज्यादा ब्लीडिंग होना , बच्चेदानी की गांठ, बच्चेदानी की झिल्ली का कैंसर , महीना न होना , बच्चेदानी की झिल्ली की दूरबीन द्वारा सफाई, (TCRE)  के ऑपरेशन डॉ अमित टंडन, डॉ वैशाली टंडन एवं विदेश से आये विश्वख्यात Hysteroscopy विशेषज्ञ Dr. Osama Shawki द्वारा किये जायेंगे इस कार्यालय में देश भर के करीब 40 डॉक्टर भाग लेंगे और 20 मरीजों के ऑपरेशन किये जायेंगे।  इस आयोजन में  गरीब मरीज 26 तारीख तक अपना रजिस्ट्रेशन कराकर इस कार्यशाला का फायदा उठा सकते है।

Read More